संपादक -

Category: संपादक

0

इंदिरा गांधी के आदेश पर मजबूरी में बीसीसीआई के अध्यक्ष बने थे साल्वे, चुनाव में अपने दोस्त बैरिस्टर वानखेडे को हराकर नहीं हुए थे खुश

435 Views  राकेश थपलियाल नई दिल्ली। भारतीय क्रिकेट बोर्ड (बीसीसीआई) का अध्यक्ष बनने के लिए पूर्व खिलाड़ियों, क्रिकेट प्रशासकों और राजनेताओं द्वारा जिस तरह से हर संभव जोड़-तोड़ की जाती रही है उसके बीच वर्ष 1982 का...

0

1983 के विश्व कप में एक भी मैच न खेलने वाला भारतीय खिलाड़ी क्यों रखता है अपने उस ब्लेजर को सबसे ज्यादा संभालकर

461 Views राकेश थपलियाल नई दिल्ली। 1983 की विश्व कप विजेता  भारतीय  टीम का एक खिलाड़ी ऐसा भी रहा जिसने पूरे टूर्नामेंट में  एक भी मैच नहीं खेला और उनकी भूमिका 12वें खिलाड़ी तक सीमित रही। इस...

0

गलती मानने और मनवाने वाले जगमोहन डालमिया की आंखें देख रहीं हैं क्रिकेट !

384 Viewsइससे इनकार नहीं किया जा सकता कि डालमिया जैसा काबिल या उनसे बेहतर व्यक्ति भारतीय क्रिकेट प्रशासन में आ सकता है लेकिन इसमें दो राय नहीं कि डालमिया ने भारतीय ही नहीं बल्कि एशियाई और विश्व...

0

खेल मंत्रालय ने इंडियन स्टाइल रेसलिंग एसोसिएशन ऑफ इंडिया को फिर से मान्यता देकर मिट्टी की कुश्ती में फूंकी जान

546 Views इंडियन स्टाइल रेसलिंग एसोसिएशन ऑफ इंडिया के सभी पदाधिकारियों ने खेल मंत्रालय का विशेष आभार प्रकट किया है राकेश थपलियाल नई दिल्ली।भारत में मिट्टी और गद्दे की कुश्ती के बीच संघर्ष दशकों पुराना है। वर्तमान...

0

खेल और फिटनेस के माध्यम से लड़कियों को सशक्त बनाने पर जोर

582 Views राकेश थपलियाल   अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस पर महिलाओं की खेलों में भागेदारी बढ़ाने पर जोर देते हुए केंद्र सरकार और राज्य स्तर के खेल संगठनों ने विशेष कार्यक्रम बनाए हैं। इससे यह संकेत साफ मिल...

0

युवाओं में शीतकालीन खेलों के प्रति बढ़ रही है दिलचस्पी

734 Views   राकेश थपलियाल हमारे देश में शीतकालीन खेल ज्यादा लोकप्रिय नहीं हो पाए हैं। इन्हें भरतीय खेल प्रेमी पर्यटन के दौरान मौजमस्ती के रूप में ही ज्यादा देखते हैं। शीतकालीन खेलों में भारतीय सितारे की...

0

क्रिकेट की चौपाल में राजनीति और कॉरपोरेट की खूब पटती है

394 Views राकेश थपलियाल क्रिकेट के खेल का राजनीति और कॉरपोरेट के साथ गजब का चोली दामन वाला साथ रहा है। क्रिकेट की चौपाल में एक दूसरे के विरोधी विभिन्न राजनीतिक दलों और कॉरपोरेट घरानों के बीच...

0

रंग बदली पिच पर ये वो जीत नहीं जिसे देखने के लिए दिल तरसे

191 Views राकेश थपलियाल (खेल टुडे पत्रिका और www.kheltoday.com के संपादक) जीत तो जीत होती है, कैसे भी मिले, कैसी भी पिच हो, देश में मिले या विदेश में। चेन्नई में दूसरे टेस्ट में मिली 317 रनों...

2

खेल बजट में कटौती और बढ़ोतरी पर आंकड़ों का ‘खेल’

558 Views राकेश थपलियाल इस बार खेल बजट में ‘आंकड़ों का खेल’ जमकर खेला जा रहा है।केंद्र सरकार ने वित्त वर्ष 2021-22 में युवा कार्यक्रम‌‌‌‌‌‌‌‍‍‍‍‍‍‍‍ और खेल मंत्रालय को जो धनराशि दी है उसकी तुलना पिछले वित्त...