हार्दिक थोड़ा भी जोखिम उठाते तो टाइटंस मैच जीत सकते थे: पार्थिव पटेल -

हार्दिक थोड़ा भी जोखिम उठाते तो टाइटंस मैच जीत सकते थे: पार्थिव पटेल

Share us on
71 Views

खेल टुडे ब्यूरो 

नई दिल्ली। दिल्ली कैपिटल्स ने टाटा आईपीएल 2023 में महत्वपूर्ण जीत हासिल की, जब उसने आखिरी ओवर तक चले रोमांचक मुकाबले में गुजरात टाइटन्स को 5 रन से हरा दिया। कैपिटल्स की शुरुआत बल्ले से बेहद खराब रही, लेकिन अमन हकीम खान ने 51 रन (44गेंद, 3×4, 3×6) बनाकर उसे लड़ने लायक स्कोर तक पहुंचाया। मोहम्मद शमी ने दिल्ली के शीर्ष क्रम में झकझोर दिया था और उसके बल्लेबाज एक समय 23-5 के स्कोर पर संघर्ष कर रहे थे, ऐसे में निचले मध्यक्रम ने कैपिटल्स को आठ पर 130 रन का स्कोर बनाने में योगदान किया। टाइटंस को भी बल्ले से संघर्ष करना पड़ा और कप्तान हार्दिक पांड्या के 59 रन (53गेंदें, 7×4) के बावजूद वे लक्ष्य का पीछा करने में असफल रहे। राहुल तेवतिया ने 19वें ओवर में एनरिच नार्जे पर लगातार ओवर में तीन छक्के उड़ाए और अपनी इस आतिशी बल्लेबाजी से सुनिश्चित किया कि गुजरात की मैच में वापसी हो। हालांकि, अनुभवी ईशांत शर्मा ने खुद पर नियंत्रण रखते हुए अंतिम ओवर में शानदार गेंदबाजी की, जिससे यह सुनिश्चित हुआ कि टाइटंस अहमदाबाद के नरेंद्र मोदी अंतर्राष्ट्रीय स्टेडियम में मैच जीत न सके।

दिल्ली को पहली पारी में सिर्फ 130 रन पर रोकने के बाद टाइटन्स के हाथ में यह मैच था, लेकिन कप्तान हार्दिक पांड्या के निष्क्रिय खेल ने उनकी जीत की संभावना को चोट पहुंचाई, जैसा कि जियोसिनेमा टाटा आईपीएल विशेषज्ञ पार्थिव पटेल ने इस हार में पांड्या के अधिक आक्रामक तरीके से नहीं खेलने पर अफसोस जताया। उन्होंने कहा, “मैच इसलिए आखिर तक चला गया क्योंकि उन्होंने (हार्दिक) कम जोखिम वाला क्रिकेट खेला। अगर वह कुछ जोखिम उठाते तो वे 130 रन के लक्ष्य का सफल पीछा करके मुकाबले को एक या दो ओवर पहले खत्म कर सकते थे। 130 रनों का पीछा करते समय जब आप 53 गेंदों में नाबाद 59 रन बनाते हैं, तो आप उम्मीद करते हैं कि आपकी टीम जीत जाएगी। उन्होंने कुल टोटल में लगभग आधे रन बनाए और जितनी भी बाउंड्री हमने देखीं, वे सभी बैकफुट से हिट की गईं। वह चीजों के होने का इंतजार कर रहे थे, यह कहना कि ‘हमें चीजें करने की जरूरत है’, अलग बात है लेकिन वह ऐसा नहीं कर रहे थे।”

ईशांत शर्मा के लिए शाम सनसनीखेज रही, क्योंकि उन्होंने अंतिम ओवर में राहुल तेवतिया को आउट करने सहित मैच में दो विकेट चटकाए। टाइटंस को जीत के लिए उस ओवर में सिर्फ 12 रन चाहिए थे और शर्मा ने उन्हें सिर्फ छह पर रोक दिया। जियोसिनेमा टाटा आईपीएल विशेषज्ञ अनिल कुंबले ने जीत हासिल करने के लिए शर्मा की बेहतरीन गेंदबाजी की प्रशंसा की। उन्होंने कहा, “अंतिम 12 रनों का उनका बचाव वास्तव में प्रभावशाली था, खासकर तब जब दो सेट बल्लेबाज क्रीज पर हों। तेवतिया वास्तव में अच्छी बल्लेबाजी कर रहे थे। उन्होंने केवल 5 गेंदें खेली थीं, लेकिन 20 रन बनाए थे। ऐसे में उनके खिलाफ अपनी योजना पर अमल करने और विचार की स्पष्टता जरूरी थी, ‘ठीक है, मैं इन वाइड यॉर्कर्स गेंदबाजी करने जा रहा हूं और उन्हें पूरी तरह से सटीक फेंकने जा रहा हूं’ और अगली गेंद धीमी गेंद थी। वो धीमी गेंद कुछ ऐसी है जिसे मैं ईशांत शर्मा को पहली बार नकलबॉल के रूप में करते हुए देख रहा हूं। अपनी डिलीवरी स्ट्राइड में बहुत देरी करके वह उसे नकलबॉल में बदल देते हैं और एकदम सटीक फेंकते हैं। उन्होंने पहले विजय शंकर और फिर तेवतिया को आउट किया। इस तरह के बल्लेबाजों के खिलाफ 12 रन बचाने के लिए आखिरी ओवर असाधारण है।”

जियोसिनेमा टाटा आईपीएल विशेषज्ञ प्रज्ञान ओझा ने डीसी गेंदबाजी आक्रमण की प्रशंसा की और इस जीत के लिए मैच का रुख अपने पक्ष में करने के लिए कैपिटल्स की सराहना की, “मैंने प्री शो में कहा था कि यह दिल्ली के लिए एक बड़ा मुकाबला है क्योंकि अगर वे एक शीर्ष टीम को उसके घर पर हरा देते हैं, तो यह न केवल उनका आत्मविश्वास बढ़ाने में मदद करेगा बल्कि इससे अन्य सभी टीमों को संदेश जाएगा कि वे यहां दमदार खेलने के लिए आए हैं। मुझे लगता है कि टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी करने का फैसला सबसे बड़ी गलती था लेकिन खिलाड़ियों ने जिस तरह से प्रतिक्रिया दी, वो असाधारण थी। जब आप सिर्फ 130 रन बनाते हैं तो टीम का मनोबल गिर जाता है। लेकिन जिस तरह से गेंदबाजों ने इसे संभाला, जिस तरह से उन्होंने खेल को चलाया और अपने कप्तान का समर्थन किया, वह शानदार था। वे भले ही पहली पारी में खेल हार रहे हों, लेकिन दूसरी पारी में गेंदबाजों ने असाधारण खेल दिखाया।”

लखनऊ सुपर जायंट्स बुधवार को दोपहर 3:30 बजे चेन्नई सुपर किंग्स से खेलेंगे और शाम 7:30 बजे पंजाब किंग्स का सामना मुम्बई इंडियंस से होगा। दोनों मुकाबले जियोसिनेमा पर लाइव आएंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.