दिल्ली में चौथी आर्यन्स कप ओपन नेशनल ताइक्वांडो चैंपियनशिप की धूम -

दिल्ली में चौथी आर्यन्स कप ओपन नेशनल ताइक्वांडो चैंपियनशिप की धूम

Share us on
342 Views

त्यागराज स्टेडियम के इंडोर हाॅल में एक हजार से अधिक खिलाड़ी भाग ले रहे हैं

सोमवार को दिल्ली में ताइक्वांडो फेडरेशन का चुनाव भी होने जा रहे हैं

खेल टुडे ब्यूरो

नई दिल्ली। देश की राजधानी में शनिवार से ताइक्वांडो के खेल की धूम मची हुई है, जो सोमवार को ‘बाल दिवस’ तक जारी रहेगी।

त्यागराज स्टेडियम के इंडोर हाॅल में चौथी आर्यन्स कप ओपन नेशनल ताइक्वांडो चैंपियनशिप का आयोजन किया जा रहा है। इसमें एक हजार से अधिक खिलाड़ी भाग ले रहे हैं। देश भर से ताइक्वांडो खिलाड़ी और उनके माता पिता व रिश्तेदार चैंपियनशिप का हिस्सा बने हुए हैं।

अजय दलाल जानकारी देते हुए। 

चैंपियनशिप के आयोजक अजय दलाल ने बताया कि “देश के 22 राज्यों से एक हजार से अधिक खिलाडी यहां आए हैं। स्वर्ण पदक जीतने पर दस हजार रुपए और रजत पदक विजेता को पांच हजार रुपए इनाम में दिये जा रहे हैं। बेस्ट प्लेयर को मोटर साइकिल इनाम में दी जायेगी।”

अजय ने कहा “हमारा लक्ष्य बच्चों को प्रोत्साहित करने का है जिससे वे भविष्य में देश के लिए पदक जीत सकें।”

सोमवार को दिल्ली में ताइक्वांडो फेडरेशन के चुनाव भी होने जा रहे हैं।

मुख्य अतिथि श्री हरपाल सिंह फ्लोरा को स्मृति चिन्ह देकर सम्मानित किया गया।

चैंपियनशिप के पहले दिन मुख्य अतिथि श्री हरपाल सिंह फ्लोरा ने खिलाडियों को जीवन में खूब मेहनत करने का मंत्र दिया।

श्री हरपाल दिल्ली रोप स्कीपिंग एसोसिएशन के अध्यक्ष हैं। इस अवसर पर उनके शिष्यों ने रोप स्कीपिंग की शानदार प्रस्तुति भी पेश की।

खेल टुडे के एडिटर इन चीफ श्री राकेश थपलियाल को स्मृति चिन्ह देकर सम्मानित किया गया।

इस अवसर पर खेल टुडे पत्रिका और वेबसाइट www.kheltoday.com के एडिटर इन चीफ श्री राकेश थपलियाल ने प्रतियोगियों को प्रेरित करने वाली अनेक बातें बताते हुए उन्हें कड़ी मेहनत करने और राज्य, राष्ट्रीय व अंतराष्ट्रीय स्तर पर पदक जीतने का लक्ष्य रखने की सलाह दी।

श्री राकेश थपलियाल ने लगभग तीन दशक पुराना किस्सा सुनाते हुए कहा, “एक समय था जब1994 में ताइक्वांडो फेडरेशन के अध्यक्ष को नहीं पता था कि ताइक्वांडो का खेल कैसे खेला जाता है।आज यहां देश के कोने कोने से खिलाडी यहां आये हुए हैं। इससे पता चलता है कि ताइक्वांडो का कितना विस्तार हो रहा है। विशेष रूप से लड़कियों के लिए यह सेल्फ डिफेंस का बढ़िया जरिया भी है।”

राकेश थपलियाल अपने विचार रखते हुए।

चैंपियनशिप की कुछ तस्वीरें।

Leave a Reply

Your email address will not be published.