विश्व कप क्वालीफाइंग दौर में इटली की डगर कठिन -

विश्व कप क्वालीफाइंग दौर में इटली की डगर कठिन

Share us on
599 Views

विश्व कप 2018 में चूकने के बाद इटली फुटबॉल टीम के लिये कतर में 2022 में होने वाले टूर्नामेंट में क्वालीफाई करना भी आसान नहीं होगा जिसमें उसे बेहद कठिन ड्रॉ मिला है। चार बार की चैम्पियन इटली को सोमवार को निकाले गए ड्रॉ मे स्विटजरलैंड के साथ रखा गया है जो पिछले तीन विश्व कप खेल चुकी है। इटली 2018 में विश्व कप में जगह नहीं बना सकी थी जिससे फीफा को टीवी प्रसारण राजस्व में करीब दस करोड़ डॉलर का नुकसान हुआ।
पहले स्थान पर रहने वाली टीमों को ही स्वतः प्रवेश मिलता है। ग्रुप सी में उत्तरी आयरलैंड, बुल्गारिया और लिथुआनिया भी हैं। इटली के कोच राबर्तो मंचिनी ने कहा कि मुझे लगता है कि हमारा मुकाबला स्विटजरलैंड से होगा। इटली अगले साल नेशंस लीग फाइनल खेलेगी। विश्व कप विजेता फ्रांस, बेल्जियम और स्पेन भी युएफा के नये खिताब की दौड़ में है। फ्रांस ग्रुप डी में यूक्रेन, फिनलैंड, बोस्निया और हर्जेगोविना और कजाखस्तान के साथ है। जर्मन ग्रुप जे में रोमानिया, आइसलैंड, आर्मेनिया, लीश्टेंस्टेन और नार्थ मेसेडोनिया के साथ है। ग्रुप जी में नीदरलैंड, तुर्की, नॉर्वे, मोंटेनीगरो, लाटविया और जिब्राल्टर हैं।
ग्रुप बी में स्पेन, स्वीडन, कोसोवो, जॉर्जिया और यूनान हैं। ग्रुप आई में इंग्लैंड, पोलैंड, हंगरी, अल्बानिया, एंडोरा और सान मारिनो भी हैं। ग्रुप ई में शीर्ष रैंकिंग वाली बेल्जियम, वेल्स, चेक गणराज्य, बेलारूस और एस्तोनिया हैं जबकि यूरोपीय चैम्पियन पुर्तगाल, सर्बिया, आयरलैंड, लक्जेमबर्ग और अजरबैजान ग्रुप ए में हैं। दसों समूहों की उपविजेता टीमें प्लेआफ में पहुंचेंगी जहां नेशंस लीग समूहों की भी दो टीमें होंगी। ये नेशंस लीग की दो सर्वोच्च रैंक वाली टीमें होंगी जो अपने विश्व कप क्वालीफाइंग समूह में शीर्ष दो में नहीं रही हैं। प्लेआफ चार चार टीमों के तीन समूहों में मार्च 2022 से खेले जायेंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.