टीम में ’नेचुरलाइज्ड’ खिलाड़ी शामिल करने के पक्ष में भारतीय बास्केटबॉल कप्तान -

टीम में ’नेचुरलाइज्ड’ खिलाड़ी शामिल करने के पक्ष में भारतीय बास्केटबॉल कप्तान

Share us on
6,026 Views

खेल टुडे ब्यूरो

नई दिल्ली। भारतीय बास्केटबॉल टीम के कप्तान और अर्जुन पुरस्कार से सम्मानित विशेष भृगुवंशी ने देश में बास्केटबॉल को एक उचित मंच दिये जाने की जरूरत पर जोर देते हुए दुनिया की बाकी टीमों की तरह भारत में भी ‘नेचुरलाइजड यानि अतिथि खिलाड़ियों’ को शामिल करने की नीति बनाने का सुझाव दिया। भृगुवंशी ने कहा कि सरकार देश में बास्केटबॉल को क्रिकेट और हॉकी की तरह लोकप्रिय बनाने की पूरी कोशिश कर रही है लेकिन ऐसा लगता है कि कुछ चीजों की कमी है।
उन्होंने कहा कि कॉलेजों में बास्केटबॉल का कोर्ट आमतौर पर दिखायी देता है लेकिन इस खेल को लेकर वह दीवानगी पैदा नहीं हुई, जो क्रिकेट और हॉकी के लिये है। इस स्थिति को बदलने के लिये बास्केटबॉल की लीग की शुरुआत होना बहुत जरूरी है। इसके अलावा बास्केटबॉल के ज्यादा से ज्यादा मुकाबले होना जरूरी है और उनको मीडिया में उचित स्थान मिलना उससे भी ज्यादा जरूरी है। उत्तर प्रदेश के सबसे बड़े खेल पुरस्कार ’लक्ष्मण अवार्ड’ के लिये नामित किये गये विशेष ने कहा ’आज आप कबड्डी की प्रो लीग भी देखते हैं। क्यों देखते हैं, क्योंकि वह टीवी पर आती है।
उन्होंने कहा कि बास्केटबॉल तो स्कूल और कॉलेजों में बहुत खेला जाता है, तो यह खेल पहले से ही युवाओं में काफी लोकप्रिय है। इसे बस एक मंच की जरूरत है, जहां ज्यादा से ज्यादा बास्केटबॉल खेला जाए। लोग देखना शुरू करेंगे तो इसका आकर्षण खुद-ब-खुद बढ़ जाएगा। उन्होंने दूसरे देशों की बास्केटबॉल टीमों की ही तरह भारत में भी अतिथि खिलाड़ियों को रखने की नीति बनाने का सुझाव दिया।
भृगुवंशी ने कहा कि अगर आप एशिया की ही दूसरी बास्केटबॉल टीमों को देखें तो लगभग सभी के पास एक नेचुरलाइज्ड खिलाड़ी या अतिथि खिलाड़ी हैं। अगर विदेश का कोई अच्छा खिलाड़ी है तो उसे अपनी नागरिकता देकर टीम में शामिल किया जाता है। ऐसे खिलाड़ी को नेचुरलाइज्ड प्लेयर या अतिथि खिलाड़ी कहा जाता है।
उन्होंने कहा ’फुटबॉल को ही लें तो उसमें अगर किसी टीम के पास अच्छा स्ट्राइकर या गोलकीपर नहीं है और विदेश में कोई ऐसा खिलाड़ी है तो उसे परस्पर सहमति से अपने देश की नागरिकता देकर टीम में शामिल कर लिया जाता है। दुनिया के ज्यादातर देशों की बास्केटबॉल टीम में यह देखने को मिल जाता है। भारत में रहने वाले विदेशी मूल के बहुत से खिलाड़ी हैं जो यहां के लिये खेलना चाहते हैं, मगर भारत में नेचुरलाइज्ड प्लेयर रखने की कोई नीति नहीं है।
पिछले साल सितम्बर में अर्जुन पुरस्कार से नवाजे गये भारतीय बास्केटबॉल टीम के कप्तान ने यह भी कहा कि भारत में बास्केटबॉल खिलाड़ियों को उतना हाथोंहाथ नहीं लिया जाता। उन्होंने कहा कि मुझे पिछले साल अर्जुन अवार्ड मिला। करीब 19 साल के बाद किसी पुरुष बास्केटबॉल खिलाड़ी को इस पुरस्कार से नवाजा गया। इससे पहले 2001 में परमिंदर सिंह को यह अवार्ड मिला था। उसके बाद 2020 में मुझे मिला है। बीच में दो महिला बास्केटबॉल खिलाड़ियों को यह अवार्ड मिला था। स्थिति का अंदाजा इसी से लगाया जा सकता है।
हालांकि उनका मानना है कि भारतीय बॉस्केटबॉल महासंघ अथक प्रयास कर रहा है कि एक अच्छी लीग शुरू हो, मगर कोविड के चलते काफी सब कुछ रुका हुआ है। अब कोरोना वायरस का टीका आ गया है तो लगता है कि चीजें पहले से बेहतर होंगी। भविष्य की तैयारियों के बारे में पूछे जाने पर विशेष ने बताया कि इस साल के अंत में होने वाले एशिया कप टूर्नामेंट के लिये क्वालीफायर हो रहे हैं। उसका आखिरी दौर अगले महीने होने वाला है। भारत को क्वालीफाई करने के लिये एक मैच और जीतना है।

9 Responses

  1. whoah this blog is excellent i really like reading
    your articles. Keep up the good work! You recognize, lots
    of people are looking around for this info, you could help them greatly.

  2. As the admin of this web site is working, no uncertainty very soon it will be renowned, due to its feature contents.

  3. This is really interesting, You are a very skilled blogger.
    I have joined your rss feed and look forward to seeking more of
    your great post. Also, I have shared your web site in my social networks!

  4. I’m really inspired together with your writing talents and also with the layout
    on your blog. Is that this a paid subject matter or did you modify
    it yourself? Either way keep up the nice high quality writing, it is
    uncommon to look a nice blog like this one today..

  5. sganswer.net says:

    Magnificent website. Lots of useful info here. I am sending it
    to a few friends ans additionally sharing in delicious. And obviously,
    thanks in your sweat!

  6. You could certainly see your skills within the article you write.
    The arena hopes for more passionate writers like you who aren’t afraid to say how they believe.
    All the time follow your heart.

  7. Thank you for some other magnificent post. Where else may just anyone get that kind of information in such a
    perfect means of writing? I have a presentation next week, and I’m at the look for
    such information.

  8. Every weekend i used to go to see this web page, because i want enjoyment,
    for the reason that this this site conations really pleasant funny information too.

  9. Spot on with this write-up, I truly feel this site needs a great deal more attention. I’ll probably be returning
    to read more, thanks for the advice!

Leave a Reply

Your email address will not be published.