फीफा अंडर-17 विमेंस वर्ल्ड कप इंडिया 2022 का कार्यक्रम घोषित -

फीफा अंडर-17 विमेंस वर्ल्ड कप इंडिया 2022 का कार्यक्रम घोषित

Share us on
362 Views

खेल टुडे ब्यूरो

नई दिल्ली। फीफा अंडर-17 विमेंस वर्ल्ड कप इंडिया 2022™ की फीफा और स्थानीय आयोजन समिति (एलओसी) ने आधिकारिक तौर पर प्रत्येक दो साल पर होने वाले इस युवा टूर्नामेंट के कार्यक्रम की घोषणा कर दी है। भुवनेश्वर 11 अक्टूबर से भारत के ग्रुप स्टेज मैचों की मेजबानी करने का हक मिला है। गोवा को दोनों सेमीफाइनल मुकाबलों की मेजबानी से सम्मानित किया गया है। इस वैश्विक टूर्नामेंट का फाइनल मुकाबला 30 अक्टूबर को नवी मुंबई में खेला जाने वाला है।

कार्यक्रम के मुताबिक 24 ग्रुप स्टेज के मैच 18 अक्टूबर को समाप्त होंगे। ग्रुप स्तर के मैचों की मेजबानी सभी तीन मेजबानों-ओडिशा, गोवा और महाराष्ट्र के बीच साझा किए जाएंगे। क्वार्टर फाइनल मैच 21 और 22 अक्टूबर को होंगे जिसके बाद 26 अक्टूबर को सेमीफाइनल होंगे।

भुवनेश्वर के कलिंगा स्टेडियम में 11, 14 और 17 अक्टूबर 2022 को मेजबान भारत तीनों ग्रुप स्टेज के मैचों में हिस्सा लेगा। नवी मुंबई में डीवाई पाटिल स्टेडियम और गोवा के फातोर्डा के पंडित जवाहरलाल नेहरू स्टेडियम चार क्वार्टर फाइनल मैच होंगे।

सभी हितधारकों के प्रति आभार व्यक्त करते हुए एलओसी परियोजना निदेशक अंकुश अरोड़ा और नंदिनी अरोड़ा ने एक संयुक्त बयान में कहा, “हम फीफा, हमारे मेजबान राज्यों और अन्य सभी हितधारकों के लिए महिला फुटबॉल के उत्थान की दिशा में काम करने के लिए उनके निरंतर समर्थन के लिए बेहद आभारी हैं।“

बयान में कहा गया है, “शेड्यूल का जारी होना इस ऐतिहासिक टूर्नामेंट की मेजबानी की राह पर एक महत्वपूर्ण क्षण है। भारत की दूसरी फीफा प्रतियोगिता की मेजबानी की तैयारी समय के अनुसार आगे बढ़ रही है और हम एक बेहद सफल टूर्नामेंट को लेकर आश्वस्त हैं, जो महिला फुटबॉल के भविष्य के सितारों को अपनी चमक दिखाने का एक बेहतरीन मंच साबित होगा।”

16 टीमों के बीच टूर्नामेंट में कुल 32 मैच खेले जाएंगे। इस तरह 10 दिनों तक चलने वाले इस आयोजन के सातवें संस्करण के विजेता का फैसला होगा। टूर्नामेंट में प्रत्येक मेजबान स्थल प्रत्येक दिन एक डबल हेडर की मेजबानी करेगा। नवी मुम्बई में खिताब उठाने से पहले सभी प्रतिभागी देशों को अब ड्रा का इंतजार है, जो आधिकारिक तौर पर 24 जून को निकाला जाएगा।

भारत ने इससे पहले 2017 में फीफा अंडर-17 वर्ल्ड कप की मेजबानी की थी, जिसे फीफा ने टीमों औऱ दर्शकों की संख्या के लिहाज से अब तक का सबसे बड़ा युवा विश्व कप करार दिया है। इस सफलता के बाद भारत अब उसी सकारात्मक विरासत को आगे बढ़ा रहा है। इस युवा टूर्नामेंट ने अपने किक ऑफ द ड्रीम™ फुटबॉल कार्निवाल के माध्यम से 2500 बच्चों के जीवन को छुआ है, जिसका उद्देश्य लिंग-समावेशी भागीदारी को प्रोत्साहित करना है।

साथ ही साथ महिलाओं के अंदर की नेतृत्व क्षमता को निखारने के लिए, एलओसी ने अपनी विरासत पहल- कोच शिक्षा छात्रवृत्ति कार्यक्रम- के माध्यम से जमीनी स्तर पर 162 महिला कोचों के साथ भारतीय फुटबॉल पारिस्थितिकी तंत्र (इको सिस्टम) को भी संवारा है। कोचिंग प्रोग्राम और फुटबॉल कार्निवाल दोनों को 11 अक्टूबर से शुरू हो रहे टूर्नामेंट से पहले आयोजित किया गया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.