फीफा अंडर-17 वर्ल्ड कप इंडिया 2022 का उद्घाटन आज, भारत की अमेरिका से भिड़ंत और मोरक्को का सामना ब्राजील से होगा -

फीफा अंडर-17 वर्ल्ड कप इंडिया 2022 का उद्घाटन आज, भारत की अमेरिका से भिड़ंत और मोरक्को का सामना ब्राजील से होगा

Share us on
539 Views

फीफा अंडर-17 महिला वर्ल्ड कप इंडिया 2022: हर ग्रुप के बारे में जो आप जानना चाहते हैं

 

खेल टुडे ब्यूरो

नई दिल्ली। फीफा अंडर-17 महिला वर्ल्ड कप इंडिया 2022, हिस्सा लेने वाले सभी 16 देश उन स्थानों पर पहुंच गए हैं, जो 11 अक्टूबर से इन देशों की टीमों में शामिल प्रतिभाशाली युवा फुटबॉलरों की मेजबानी के लिए तैयार हैं।

ओडिशा और गोवा में शुरुआती दिन के मैच होंगे। मेजबान भारत अपने शुरुआती मैच में भुवनेश्वर के कलिंगा स्टेडियम में संयुक्त राज्य अमेरिका से भिड़ेगा। यह मैच रात 8 बजे से खेला जाएगा। भारत के ग्रुप में मोरक्को और ब्राजील अन्य टीमें हैं।

इस प्रतिष्ठित वैश्विक टूर्नामेंट के सातवें संस्करण में चार ग्रुप हैं – ए, बी, सी और डी। नवी मुंबई तीसरा मेजबान स्थल है,जहां 30 अक्टूबर को भव्य फाइनल का आयोजन होगा।

फीफा अंडर-17 विमेंस वर्ल्ड कप इंडिया 2022™ में फ्रांस, जापान और स्पेन के रूप में तीन पूर्व चैंपियन मैदान में उतरेंगे। इस बीच जापान के साथ कनाडा, जर्मनी और न्यूजीलैंड इस वैश्विक आयोजन के हर संस्करण में भाग लेने के अपने गौरवशाली रिकॉर्ड को जारी रखेंगे।

ग्रुप ए – भारत के साथ इस ग्रुप में मोरक्को, ब्राजील और अमेरिका

2017 में लड़कों के बाद, अब भारत की अंडर-17 विमेंस टीम की बारी है कि वह फीफा अंडर-17 विमेंस वर्ल्ड कप के रूप में फुटबॉल के उच्चतम इवेंट में हिस्सा ले। भारत यह सुनिश्चित करना चाहेगा कि यह इवेंट एक लिहाज से लोक कथाओं का हिस्सा बने, लेकिन इसके लिए उसे पहले संयुक्त राज्य अमेरिका, मोरक्को और ब्राजील से कड़ी चुनौतियों का सामना करना होगा।

ब्राजील, जो टूर्नामेंट में छठ बार भागीदारी करेगा, इस टूर्नामेंट में हिस्सा लेने वाले सबसे सफल CONMEBOL टीम है, लेकिन उसका रिकॉर्ड प्रभावशाली नहीं है। उसने इस टूर्नामेंट में 17 में से 6 मैच जीते हैं। उसके हिस्से 2 ड्रॉ और 9 हार भी है। और इस टीम ने कभी भी अंतिम चार में जगह नहीं बनाई है।

डेब्यू करने वाले मोरक्को और भारत एक ही नाव पर सवार हैं। दोनों इस टूर्नामेंट के माध्यम से वैश्विक फुटबॉल पर बड़ा प्रभाव डालने की उम्मीद कर रहे हैं। इस बीच, 15 मैचों में 6 जीत और 3 ड्रॉ के रिकॉर्ड के साथ अमेरिका पांचवीं बार इस इवेंट में हिस्सा लेगा। संयुक्त राज्य अमेरिका का सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन 2008 में आया था, जब वह उपविजेता रहा था लेकिन तब से यह ग्रुप चरणों से आगे नहीं गया है।

टूर्नामेंट के उद्घाटन के दिन 11 अक्टूबर को भुवनेश्वर में भारत और अमेरिका की भिड़ंत होगी जबकि जबकि मोरक्को का सामना ब्राजील से होगा।

ग्रुप बी – खिताब का दावेदार जर्मनी, नाइजीरिया, चिली और न्यूजीलैंड से बना है यह ग्रुप

जर्मन टीम हमेशा से इस इवेंट में पसंदीदा रही है। वह केवल 2014 में ग्रुप स्टेज से आगे प्रगति करने में असफल रहे हैं। वे 2010 में अपने पूरे शबाब पर थे क्योंकि उन्होंने टूर्नामेंट-रिकॉर्ड 22 गोल किए थे, जिसमें कियारा मैलिनोवस्की एक ही इवेंट के एक संस्करण में लगातार दो हैट्रिक लगाने वाली पहली खिलाड़ी बनी थीं। खिताब हालांकि इस टीम से दूर ही रहा है।

नाइजीरिया, जिसने इससे पहले टूर्नामेंट में पांच बार खेलते हुए तीन बार क्वार्टर फाइनल में जगह बनाई है, ने हाल ही में अपने स्तर में गिरावट देखी है। यह टीम भारत में चमकने के लिए पूरा दमखम लगा देगी। नाइजीरियाई – प्रतियोगिता में खेले गए सभी मैचों में से 50% जीते हैं। 2012 में टूर्नामेंट के इतिहास में संयुक्त सबसे बड़ी जीत दर्ज करने वाली टीम नाइजीरिया थी। उसने अजरबैजान के खिलाफ 11 गोल किए थे।

इस बीच, चिली टूर्नामेंट में दूसरी बार हिस्सा लेने के लिए तैयार है। अपनी पिछली उपस्थिति में वह हालांकि कोई जीत नहीं दर्ज कर सका था। साल 2010 में इस टीम ने महज एक गोल किया था और अपने खिलाफ 10 गोल खाए थे।

ग्रुप की अगली टीम न्यूजीलैंड है, जो टूर्नामेंट के उद्घाटन संस्करण के मेजबान थे। वे हमेशा इस टूर्नामेंट में मौजूद रहे हैं, लेकिन केवल एक बार पहले दौर से आगे बढ़े हैं। इस टीम ने हालांकि ग्रुप स्तर से पहली बार उठकर 2018 में कांस्य पदक हासिल किया था। 21 मैचों में 5 जीत और 14 हार का मतलब यह है कि आंकड़े उनके साथ नहीं है, लेकिन न्यूजीलैंड को बड़े मैच जीतने वाली टीम के रूप में जाना जाता है।

ग्रुप सी – डिफेंडिंग चैंपियन स्पेन के साथ मेक्सिको, कोलंबिया और चाइना पीआर इस ग्रुप में हैं

डिफेंडिंग चैंपियन स्पेन टूर्नामेंट की सर्वश्रेष्ठ टीमों में से एक है और जब भी उन्होंने क्वालीफाई किया है तब वे शीर्ष-3 से बाहर कभी नहीं रहे हैं। दो कांस्य पदक, एक रजत और एक स्वर्ण टीम की कमाई है। 14 मैचों में इस टीम ने 58 गोल किए हैं। इनमें से उसने 7 जीते हैं, 4 हारे हैं।

स्पेन को जहां हराना मुश्किल है वहीं मेक्सिको भी पीछे नहीं है। फीफा अंडर-17 विमेंस वलर्ड कप में अपने प्रदर्शन में इस टीम ने लगातार सुधार किया है। 2018 में यह उपविजेता रहा। 2018 फीफा अंडर-17 का फिर से मैच ग्रुप चरण में महिला विश्व कप फाइनल एक रोमांचक संभावना है, इसमें कोई संदेह नहीं है, क्योंकि मेक्सिको 2018 के परिणाम को उलटने पर नजर रखेगा। इस टीम ने 20 मैचों में 8 जीते हैं और 8 हारे हैं, और निश्चित रूप से उन टीमों में से एक है, जिन पर कड़ी नजर रखी जा सकती है।

दक्षिण अमेरिकी टीम कोलंबिया हमेशा विश्व कप टूर्नामेंट में अधिक प्रतिस्पर्धी टीमों में से एक रहा है, और इस बार कुछ भी कम नहीं होने की उम्मीद है। हालांकि, तथ्य यह है कि इस टीम ने इस युवा टूर्नामेंट के नॉकआउट चरणों में जगह नहीं बनाई है और 12 मैचों में से केवल 1 मैच जीता है, 4 ड्रा रहे हैं और यह बात उनके विरोधियों को खुश कर रही होगी।

चाइना पीआर ग्रुप-सी में चौथी टीम है, और वे फीफा अंडर -17 विमेंस वर्ल्ड कप में केवल अपनी तीसरी उपस्थिति दर्ज कर रहे हैं। चाइना ने 6 में केवल दो मैच जीते हैं, और दोनों मौकों पर दक्षिण अमेरिकी टीमों को हराया है। वे अपनी साथी टीमों को एक कठिन टक्कर देने की संभावना रखते हैं।

ग्रुप डी – जापान, तंजानिया, कनाडा और फ्रांस ग्रुप ऑफ डेथ में शामिल

एशियाई फुटबॉल के पावर हाउस में से एक जापान हर लिहाज से देखे जाने योग्य टीम है। इस टीम ने हमेशा कम से कम क्वार्टर फाइनल में जगह बनाई है, और तीन फाइनल खेली है। 2014 में एक खिताबी जीत भी हासिल की। प्रतियोगिता में अपने 30 मैचों से जापान ने 22 में जीत हासिल की है और केवल 2 हारे हैं। जापान, जो आखिरी बार 2012 में रेगुलेशन टाइम हार गया था , ने अपने सभी मैचों में 106 गोल किए हैं और केवल 22 को खाए हैं। इस टीम से बेहतरीन प्रदर्शन की आशा हमेशा ही रहती है।

प्रतियोगिता में हमेशा मौजूद रहने वाली एक और टीम- कनाडा केवल दो बार ग्रुप स्टेज से आगे प्रगति करने में विफल रही है, और पिछले संस्करण में चौथे स्थान पर रही थी। निस्संदेह ये टीम 26 मैचों में 9 जीत के अपने रिकार्ड में सुधार करने की कोशिश करेगी।

पूर्व चैंपियन फ्रांस का प्रतियोगिता में 50% रिकॉर्ड है। इस टीम ने फीफा अंडर -17 विमेंस वर्ल्ड कप के दो संस्करणों में से एक जीता है, जिसमें उसने भाग लिया है। फ्रांसीसी टीम ने 2012 में प्रतियोगिता जीती, जबकि साल 2008 में यह ग्रुप स्टेज से बाहर नहीं जा सकी। इस टीम 9 मैचों में 22 बार स्कोर किया है, 3 जीते हैं और 1 हारी है। यह प्रतियोगिता में उच्चतम स्कोरिंग मैच (10-2 जीत बनाम गाम्बिया) का भी हिस्सा रही है।

और जबकि फ्रांसीसी स्पष्ट रूप से कोई पुश ओवर्स नहीं हैं, तंजानिया के लिए, यह एक महत्वपूर्ण अवसर है क्योंकि यह पहली बार होगा जब वह किसी प्रतियोगिता फाइनल चरण में हिस्सा ले रही है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.