अम्बेडकर स्टेडियम का होगा जीर्णोद्धार, अंतरराष्ट्रीय मानदंडों पर खरा उतरेगा -

अम्बेडकर स्टेडियम का होगा जीर्णोद्धार, अंतरराष्ट्रीय मानदंडों पर खरा उतरेगा

Share us on
212 Views

एमसीडी द्वारा 15 मार्च 2024 को जारी आदेश के अनुसार डॉ. अम्बेडकर स्टेडियम को अंतरराष्ट्रीय स्तर की तमाम सुविधाओं से लैस किया जाएगा, जिनमें चेंजिंग रूम, ड्रेसिंग रूम, शौचालय, कैफेटेरिया, कैंटीन, मीडिया सेंटर इत्यादि को आधुनिक रूप दिया जाएगा। डीएसए का अध्यक्ष पद संभालने के बाद से  प्राथमिकता में डॉ. अम्बेडकर स्टेडियम का जीणोद्धार करना था और एमसीडी कमिश्नर ज्ञानेश भारती के प्रयासों से दिल्ली और देश के फुटबॉल प्रेमियों का सपना साकार होने जा रहा है।- अनुज गुप्ता, अध्यक्ष, डीएसए

खेल टुडे ब्यूरो
नई दिल्ली। दिल्ली की फुटबॉल का दिल कहा जाने वाले डॉ. भीमराव अम्बेडकर स्टेडियम का कायाकल्प होने जा रहा है। कभी कॉरपोरेशन स्टेडियम के नाम से विख्यात यह स्टेडियम अब अंतरराष्ट्रीय मानदंडों पर खरा उतरने के लिए पूरी तरह तैयार हो रहा है। देर से ही सही , दिल्ली सरकार ने फिरोजशाह कोटला क्रिकेट मैदान से सटे इस स्टेडियम का जीर्णोद्धार करने का ऐतिहासिक कदम उठा लिया है।
दिल्ली सॉकर एसोसिएशन (डीएसए) के अध्यक्ष अनुज गुप्ता के अनुसार एमसीडी द्वारा 15 मार्च 2024 को जारी आदेश के अनुसार डॉ. अम्बेडकर स्टेडियम को अंतरराष्ट्रीय स्तर की तमाम सुविधाओं से लैस किया जाएगा, जिनमें चेंजिंग रूम, ड्रेसिंग रूम, शौचालय, कैफेटेरिया, कैंटीन, मीडिया सेंटर इत्यादि को आधुनिक रूप दिया जाएगा। अनुज ने बताया कि डीएसए का अध्यक्ष पद संभालने के बाद से उनकी प्राथमिकता में डॉ. अम्बेडकर स्टेडियम का जीणोद्धार करना था और एमसीडी कमिश्नर ज्ञानेश भारती के प्रयासों से दिल्ली और देश के फुटबॉल प्रेमियों का सपना साकार होने जा रहा है। उम्मीद की जा रही है कि स्टेडियम का रूप रंग बदलने और तमाम सुविधाओं से लैस होने के बाद से देश की राजधानी फिर से फुटबॉल का ‘हब’ बन जाएगी।


उल्लेखनीय है कि डॉ. अम्बेडकर स्टेडियम दिल्ली फुटबॉल लीग, डूरंड कप, डीसीएम, नेहरू कप और अनेकों अंतरराष्ट्रीय आयोजनों और सुब्रतो कप समेत विभिन्न आयु वर्ग की प्रतियोगिताओं के लिए विख्यात रहा है। स्टेडियम का जीर्णोद्धार होने से जहां एक ओर दिल्ली की फुटबॉल गतिविधियां बढ़ेंगी, तो आईएसएल और आईलीग जैसे आयोजन इसकी ओर आकर्षित होंगे।
डीएसए द्वारा अनेक आयु वर्ग के आयोजन किए जा रहे हैं। पांच डिवीजन में लीग मुकाबले आयोजित हो रहे हैं। साथ ही महिला खिलाड़ियों को भी बराबर मौके मिल रहे हैं। डॉ. अम्बेडकर स्टेडियम को नया रंग रूप देने से न सिर्फ डीएसए का कद बढ़ेगा, बल्कि राजधानी में फुटबॉल के मेले फिर से सजेंगे। दिल्ली के फुटबॉल प्रेमी वर्षों से बदलाव की उम्मीद कर रहे थे, जो कि अगले छह महीनों में पूरी हो जाएगी। इसके साथ ही फुटबॉल प्रेमी फिर से डॉ. अम्बेडकर स्टेडियम में लौटने शुरू हो जाएंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.